दिवाली का त्योहार है. हर कोई बड़े ही धूमधाम से हिंदुओं का यह महापर्व मनाने के लिए तैयार है. कहते हैं कि दिवाली के दिन माता लक्ष्मी की सच्चे मन से पूजा की जाए तो सारा कर्ज उतर जाता है. इतना ही नहीं, घर की तिजोरी भी हमेशा पैसों से भरी रहती है.

दिवाली के दिन से पहले धनतेरस को भी काफी शुभ माना गया है. माना जाता है कि धनतेरस से लेकर दिवाली तक धन की देवी कही जाने वाली माता लक्ष्मी स्वयं धरती पर भ्रमण करने निकलती हैं. वह अपने सच्चे भक्तों को आशीर्वाद देती हैं. इससे न केवल उसकी गरीबी दूर होती है बल्कि कर्ज भी समाप्त हो जाता है. वहीं, हम आपके लिए ऐसे उपाय लेकर आए हैं, जिन्हें आजमाकर आप अपनी आर्थिक समस्याओं से छुटकरा पा सकते हैं.

गन्ने की करें पूजा
कहते हैं कि दिवाली और धनतेरस के दिन सुबह सवेरे घर में गन्ना खरीदकर लाएं. रात में लक्ष्मी पूजन के समय गन्ने की पूजा करना शुभ माना गया है. मान्यता है कि ऐसा करने से माता लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है और कर्ज से मुक्ति मिलती है.

गरीब महिला में बांटे सुहाग का सामान
अगर आप कर्ज से मुक्ति पाना चाहते हैं तो घर की पत्नी अथवा परिवार की किसी विवाहित महिला से सुहाग का सामान दान करवाएं. दान की सामग्री में इत्र को जरूर रखें. कहते हैं कि सुहाग का सामान दान करने पर मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और सभी कर्जों से जल्द मुक्ति मिलती है.

गरीबों में बांटें पुए
कई जगहों पर आज धनतेरस मनाया जा रहा है. वहीं, मान्यता है कि धनतेरस और दीपावली के दिन घर में मीठे पुए बनाकर गरीबों को दान करना चाहिए. इससे इंसान को सालों से चल रहे कर्ज से मुक्ति मिलती है.

कमल के बीज का करें उपाय
दिवाली के दिन मां लक्ष्मी के पूजन में कई बातों का ध्यान रखना चाहिए. इस दौरान कमल के बीज के 108 दाने घी में डुबोकर एक-एक करके अग्नि में समर्पित करें और इस दौरान लक्ष्मी मंत्र का जाप अवश्य करें. कहते हैं कि इससे घर की दरिद्रता दूर होती है.

दिवाली की रात करें मां लक्ष्मी के मंत्र का जाप
दिवाली में माता लक्ष्मी के पूजन का विशेष महत्व है. धनतेरस से दिवाली की रात तक ‘ओम महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात’ मंत्र का 41000 बार जाप करना काफी फलदायी होता है. अगर हो सके तो दिवाली की रात दशांश हवन करें. फिर हर रोज ग्यारह माला जाप करें. ऐसा करने से धन की कमी नहीं होती है.

जानें दीपक जलाने का सही तरीका
दिवाली 5 दिन तक की मानी जाती है. यह धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दीपावली, गोवर्धन पूजा, यम द्वितीया तक मनाई जाती है. मान्यता है कि पांचों दिन 4 छोटे और 1 बड़े दीपक को जरूर जलाना चाहिए. दीपक जलाने से पहले आसन बिछाकर उसपर खील, चावल रखें और फिर उसे जलाएं. इससे घर में लक्ष्मी बनी रहती हैं.

(Disclaimer: ऊपर दी गई जानकारियां धार्मिक मान्यताओं-परंपराओं के अनुसार हैं. Readmeloud इनकी पुष्टि नहीं करता है.)

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here