How to avoid cyber fraud: आजकल देश में बहुत तेजी से साइबर क्राइम के मामलों में इजाफा देखा जा रहा है. जिसे देखो, तीन में से हर एक व्यक्ति साइबर क्राइम का शिकार हो रहा है लेकिन इन दोनों ट्रेंड में तीन टॉप साइबर क्राइम चल रहे हैं, जिनके बारे में आज हम आपको बताने वाले हैं. अगर आप इसे खुद को बचा लेते हैं तो समझिए काफी हद तक आप अपने अकाउंट की रखवाली कर सकते हैं.

अगर आप कोई पुराना सामान बेचना चाहते हैं या फिर खरीदने के लिए कोई पॉपुलर वेबसाइट पर सर्च कर रहे हैं तो आपको साइबर ठगों से सावधान रहना होगा. दरअसल यह ठग लोग QR कोड स्कैन या फिर लिंक भेज कर सीधे आपके अकाउंट में सेंध लगा सकते हैं. आजकल इस तरह के कई सारे फ्रॉड के मामले सामने आ रहे हैं.

UPI फ्रॉड
इस तरह के फ्रॉड में ठग बिना कोई मोलभाव किए हुए आपको पैसे ट्रांसफर करने में राजी हो जाएगा. इसमें सबसे पहले आपको एक SMS आएगा. जिस पर लिखा होगा कि इतने पैसे आपके खाते में पहुंच गए हैं, उसे अप्रूव करने के लिए आपको इस लिंक पर क्लिक करने की बात कही गई होगी. बता दें कि यह लिंक आपके फोन पर किसी UPI ऐप का होगा लेकिन जैसे ही आप उसे लिंक पर गलती से भी क्लिक करते हैं. वैसे ही आपके अकाउंट में पैसे आने के बजाय उड़ जाएंगे.

बिरयानी के लिए 16 साल के लड़के ने खेला खूनी तांडव, दूसरे लड़के की लाश पर किया डांस

QR कोड फ्रॉड
अगर कोई भी इंसान किसी पॉपुलर वेबसाइट पर कुछ बेच रहा होता है तो ठग आपको एक QR कोड भेजता है. इस कोड को UPI ऐप से स्कैन करने की बात रहेगा. इसके लिए आपको बताया जाएगा कि इसको स्कैन करते ही आपके खाते में पैसे पहुंच जाएंगे लेकिन जैसे ही आप उसे QR कोड को स्कैन करके UPI पिन डालते हैं तो समझिए आपके खाते की सफाई हो जाएगी. इतना ही नहीं, ठग आपको दोबारा कांटैक्ट करेगा और कहेगा कि गलती से उसने दूसरा QR कोड भेज दिया था और आपको वह पैसे लौटाना चाहता है. इसके साथ ही पैसे लौटाने के नाम पर एक और QR कोड आएगा. अगर आपने यहां पर भी उसे स्कैन करके अपना यूपीआई पिन डाल दिया तो समझिए आप खुद ही अपना पूरा अकाउंट खाली करने के जिम्मेदार हो सकते हैं.

नकली पेमेंट रसीद
मान लीजिए आप कोई सामान बेचना चाहते हैं तो ठग आपसे सामान बेचने को कहेगा. इसके साथ ही आपको एक नकली पेमेंट की रसीद जैसे कि नेफ्ट ट्रांसफर का स्क्रीनशॉट या फिर बैंक के मैसेज का स्क्रीनशॉट भेजते हुए यह कहेगा कि पैसे उसी ने ट्रांसफर किए हैं. बैंक सर्वर में कोई दिक्कत होगी, कुछ देर बाद आपको पैसे मिल जाएंगे.

सब्जी के लिए मां-बेटे में हो गई बहस, एक ने खाया जहर, दूसरे ने लगा ली फांसी

बता दें कि लोगों का भरोसा जीतने के लिए यह ठग ज्यादातर खुद को आर्मी या फिर किसी सरकारी विभाग का कर्मचारी बताते हैं. इसके साथ ही उनके पास नकली आईडी भी होती है. कोई भी सामान खरीदने बेचने की जल्दबाजी का कारण हमेशा यह ट्रांसफर या फिर पोस्टिंग बताते हैं.

अब आप सोच रहे होंगे कि साइबर क्राइम से बचा कैसे जाए तो चलिए आपको कुछ टिप्स बताते हैं-

जब भी कभी आपको कभी अनजान खरीदार से व्हाट्सएप या फिर मैसेंजर जैसे सोशल मीडिया हैंडल पर चैट करने को कहें तो इसे इग्नोर करें.

कोई भी सामान बेचने या खरीदने में जल्दबाजी न दिखाएं. यहां तक की ऑनलाइन पेमेंट लेते या देते समय भी पूरी सतर्कता बरतनी चाहिए.

कोई भी जरूरी बात छोड़कर किसी तरह की पर्सनल या फाइनेंशियल जानकारी किसी से भी शेयर ना करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here