Free Millet With Wheat and Rice: केंद्र सरकार ने श्री अन्न योजना को प्रमोट करके आम लोगों को शानदार तोहफा दे दिया है. ज्यादा से ज्यादा लोग अपने आहार में अनाज को शामिल कर सकें, इसके लिए कड़कड़ाती ठंड के बीच जनवरी में सभी राशन कार्ड धारकों को राशन की दुकानों से मुफ्त बाजरा भी अब मिलेगा हालांकि जिन लोगों ने अपना राशन कार्ड नहीं बनवा रखा है, उन्हें श्री अन्न योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा.

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार ने भी फरवरी महीने से प्रदेश की सभी राशन दुकानों के माध्यम से गेहूं और चावल के साथ-साथ फ्री में बाजरा बांटने का फैसला किया है हालांकि सरकार की तरफ से शुरू की गई इस नई व्यवस्था में कार्ड धारकों को मिलने वाले गेहूं और चावल दोनों की ही मात्रा कम कर दी गई है और इसमें मोटे अनाज को जोड़ दिया गया है.

ठंड के मौसम में शरीर को बादाम के बराबर फायदे देती है मूंगफली, खुद पढ़िए

दरअसल सरकार की मंशा प्राचीन अनाजों को आहार में शामिल करने की है. इस बारे में सरकार अलग-अलग सरकारी कार्यक्रमों के जरिए लोगों को जागरुक कर रही है. इसके साथ ही सरकार ने पहल करते हुए सभी सरकारी राशन की दुकानों में अनाज बांटने का प्रोजेक्ट प्लान तैयार किया है.

जानकारी के अनुसार, अंत्योदय कार्ड धारकों को प्रति यूनिट मिलने वाला 21 किलो चावल घटकर केवल 11 किलो कर दिया गया है, वहीं, 10 किलो बाजरा दिया जाएगा. जो भी पात्र का कार्ड धारक है, उन्हें प्रति यूनिट 3 किलोग्राम चावल मिलेगा. इस घटाकर 1 किलोग्राम कर दिया गया और उन्हें 2 किलो ग्राम बाजरा मिलेगा.

बरगद के पत्ते खाकर भगाएं इतनी बीमारियां, बचेंगी डॉक्टर की फीस

बताया जा रहा है कि फरवरी महीने से सरकारी राशन की दुकानों पर बाजार वितरण शुरू हो जाएगा. प्रति यूनिट चावल की मात्रा कम करने के बाद उतनी मात्रा में बाजरा कार्ड धारकों को दिया जाएगा. बता दें कि राशन कार्ड धारकों को प्रतीक यूनिट 2 किलो गेहूं और 3 किलो चावल फ्री में दिया जाता है. ठेकेदारों को जनवरी महीने के चालान भी जारी कर दिए गए हैं. यह उसे सामान का चालान है, जो की कोटेदारों को दिया जाता है.

शरीर का बैड कोलेस्ट्रॉल तेजी से कम करते हैं ये 5 योगासन, रहेंगे स्वस्थ

बता दें कि ठंड के मौसम में मोटा अनाज ज्यादा बिकता है. इसमें बाजरा, मक्का और ज्वार शामिल हैं. गल्ला के थोक विक्रेताओं के मुताबिक, इस समय बाजार में बाजरा 2150 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है. उम्मीद थी कि सर्दियों में इसकी कीमत बढ़ जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here